Director Message

राजीवलोचनाचार्य महाविद्यालय परिवार की ओर से हार्दिक बधाई !!

वर्तमान समय में प्रायः दृष्टि गोचर होता है कि हमारी युवा पीढ़ी पाष्चात्य संस्कृति के प्रति तीव्र गति से आकर्षित होकर भारतीय षिक्षा और संस्कृति से दूर हो रही है, जिसका परिणाम सामाजिक संस्कारों का क्षरण तथा अनुषासन हीनता के रूप में दिखाई देता है, युवा पीड़ी राष्ट्र का भविष्य होते है, और इनको सही मार्ग पर ले जाने का कार्य निष्चय ही शैक्षिक संस्था का होता है, इसलिए राजीवलोचनाचार्य महाविद्यालय अपने छात्र-छात्राओं के लिए अपनी शैक्षिक व्यवस्था को एक परिवारिक पृष्ठभूमि का रूप प्रदान कर उनके अंदर शैक्षिक योग्यता के साथ – साथ भारतीय सामाजिक संस्कारों व अनुषासन का निर्माण करने का भी प्रयास करता है, क्योंकि आप अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के माता-पिता व अभिभावक हैं इसलिए महाविद्यालय की समस्त शैक्षिक व षिक्षणेत्तर सफल गतिविधियों एवं प्रयासो के साक्षी व सक्रिय भागीदार भी है, 21वीं सदी में हमारे युवाओं को सफलता के लिए कठिन प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ता है, शैक्षिक उन्नति के साथ ही साथ उनके अंदर रचनात्मकता व तर्कषक्ति के ज्ञानार्जन हेतु विभिन्न षिक्षाविदों के मार्गदर्षन व सहयोग से महाविद्यालय में अनुकूल शैक्षिक व ज्ञान पिपासा हेतु उत्तेजक वातावरण का निर्माण किया गया है।

ज्ञानषक्ति का समतावादी स्त्रोंत होने के नाते षिक्षण प्रक्रिया के प्रमुख अंग ‘‘ युवा विद्वानों ‘‘ को गुणतत्तापूर्ण संस्कारित षिक्षा प्रदान करने का हमारा यह प्रयास निरंतर जारी रहेगा आप सभी अभिभावकों एवं विद्वानों के सहयोग से राजीवलोचनाचार्य महाविद्यालय अपने विद्यार्थियों को कुषल, ज्ञानी,आषावादी भावनाओं से परिपूर्ण कर शैक्षिक व सामाजिक उन्नति हेतु प्रयासरत रहने हेतु दृड़ संकल्पित है।..

डाॅ. प्रमोद नायक